You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

हिमाचल सरकार को कोरोना वायरस से निपटने के लिए सुझाव भेजें

Start Date: 18-03-2020
अंतिम तिथि 29-05-2020

हिमाचल सरकार ने कोरोना वायरस की स्थिति से निपटने के लिए ठोस कदम उठा ...

विवरण देखें जानकारी छिपाएँ

हिमाचल सरकार ने कोरोना वायरस की स्थिति से निपटने के लिए ठोस कदम उठा लिए हैं। सरकार ने उचित दिशा-निर्देश जारी करने के साथ-साथ महत्वपूर्ण निर्णय भी लिए हैं। इसके साथ ही प्रदेश सरकार ने राज्य के आम नागरिकों से इस वायरस की स्थिति से निपटने के लिए सुझाव आमंत्रित किए हैं। सुझाव माईगव पोर्टल पर भेजने होंगे, सुझाव भेजने की अंतिम तिथि 05 अप्रैल, 2020 निर्धारित की गई है। विशेष है कि कोरोना वायरस से बचाव के दृष्टिगत राज्य सरकार ने हिमाचल प्रदेश में सभी सामाजिक, सांस्कृतिक, खेल, राजनीतिक, धार्मिक, अकादमिक, बड़े स्तर पर पारिवारिक समाराहों और किसी भी उद्देश्य से ज्यादा संख्या में लोगों की भीड़ एकत्र होने पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया है। यह प्रतिबंध हिमाचल प्रदेश महामारी रोग (कोविड-19) नियम, 2020 के अंतर्गत लगाया गया है, ताकि कोरोना वायरस से रोकथाम हो सके और इसका संक्रमण न फैले। यह प्रतिबंध आगामी आदेशों तक जारी रहेगा। कोरोना वायरस से बचाव की दृष्टि से प्रदेशभर में सरकारी तथा निजी बसों में डिटॉल और हैंड सेनिटाइजर की सप्रे की जा रही है। इसके साथ ही आगामी 31 मार्च तक शिक्षण संस्थानों को बंद किया गया है। हालांकि शिक्षा संस्थानों में परीक्षाएं जारी रहेंगी। वहीं कार्यालयों में बायोमिट्रिक मशीनों पर हाजिरी लगाने पर रोक लगाई है, अस्पतालों में भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

सभी टिप्पणियां देखें
हटाएं
111 परिणाम मिला
770

Rishi raj 1 year 8 months पहले

नमस्कार , Sir मेरे पास एक आईडिया है जिससे आप इस वायरस से घर से बाहर निकलने पर बच सकते है। जब भी आप किसी भी अनजान व्यक्ति के पास से गुजरते है तो उस समय पर कुछ पल के लिए अपनी सांस रोक ले और तुरंत आगे निकल जाए। जैसा कि आप जानते होकि ये वायरस आपके मुंह और नाक से है आपके अंदर जा सकता है, तो क्यों ना अपनी सांस कुछ क्षण रोक कर हम इससे बचने का पर्यास करे।

ये सिर्फ उनके लिए है जिनको घर से किसी जरूरी काम से निकलना ही पर रहा है ।
बाकी सब घर पर रहे और सुरक्षित रहे।

जय हिन्द जय भारत।

15140

Rahul Kashyap 1 year 8 months पहले

सरकार द्वारा आंगनवाड़ियों व स्कूलों में प्रत्येक बच्चे के लिए मध्याह्न भोजन योजना में राशन का कोटा निश्चित होता है जिसके अनुसार बच्चों को भोजन वितरित किया जाता है। आजकल आंगनवाड़ी व स्कूलों में अवकाश है तो स्कूलों में रखा अनाज खाद्यान खराब होने की भी संभावना है इसलिए सरकार को चाहिए कि वह प्रत्येक बच्चे के निश्चित कोटे के आधार पर वह राशन बच्चों को उनके घर के लिए उपलब्ध करवाए। ताकि वह बच्चे जो आजकल भोजन की समस्या से जुझ रहे है उन्हें भोजन प्राप्त हो सके।

राहुल कश्यप
जुनगा, जिला शिमला।