You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

हिमाचल प्रदेश को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए सुझाव दीजिए

Start Date: 20-02-2020
End Date: 20-03-2020

देवभूमि हिमाचल को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए प्रदेश सरकार ने ...

विवरण देखें जानकारी छिपाएँ

देवभूमि हिमाचल को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए प्रदेश सरकार ने ऐतिहासिक पहल शुरू की है। इस पहल के तहत रिसाइकल न होने वाले प्लास्टिक वेस्ट व अन्य प्रकार के सिंगल यूज प्लास्टिक वेस्ट को सरकार प्रयोग में ला रही है। यही नहीं इस तरह का वेस्ट आम नागरिक शहरी स्थानीय निकाय को बेच सकेंगे। इसके दाम 75 रुपए प्रतिकिलो निर्धारित किया गया है। इस योजना को और बेहतर बनाने एवं हिमाचल को प्लास्टिक बनाने के लिए आप अपने कीमती सुझाव दीजिए। सुझाव देने की अंतिम तिथि 20 मार्च, 2020 तय की गई है।उल्लेखनीय है कि जगह-जगह फैंके जा रहे प्लास्टिक कचरे के कारण जहां पर्यावरण को नुक्सान पहुंच रहा है वहीं बीमारियां फैलने का भी खतरा बना रहता है। एक अनुमान के अनुसार, प्रदेशभर में प्रति वर्ष लगभग 60-65 मीट्रिक टन प्लास्टिक कचरा उत्पन्न होता है (कुल कचरे का 10 प्रतिशत, जिसमें से केवल 2-3 टन (प्लास्टिक कचरे का 0.5 प्रतिशत को सुरक्षित रूप से निपटाया जाता है। इसके मद्देनजर राज्य सरकार ने कैरी बैग्स, थर्माकोल कटलरी के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके साथ ही प्लास्टिक जैसे चम्मच, कांटे, चाकू, कप, प्लेट, चश्मा आदि पर प्रतिबंध लगाने की भी योजना बनाई जा रही है। हालांकि इसका मात्र 30-35 प्रतिशत तक ही उपयोग होता है। कुल प्लास्टिक का उपयोग, और शेष 65-70 प्रतिशत प्लास्टिक पैकेजिंग आदि से उत्पन्न हो रहा है, जो अभी भी एक बड़ी चुनौती है।

सभी टिप्पणियां देखें
हटाएं
44 परिणाम मिला
800

Rituraj 2 months 3 weeks पहले

Suggestions for Plastic free State are: some the

REPLACEMENT:
* Plastic bottles with glass, Bamboo,steel
* Plastic bags with jute bags or paper bags or cotton
bags
*Plastic plates, spoon, glass (single use plastic)
With steel, glass, bronze, banana leafs, walnuts
leafs.
2 RECYCLING
3 Separation of plastic and non plastic waste
4 Encourage people for use of non plastic articles
5 Strict rules and regulations
6 Accountability of the people
7 Punishments for rules violations

2710

Dr Vijay Guleria 2 months 3 weeks पहले

Hi,
My suggestion are:
1. Encouragement of using clothing bag.
2. Use steel bottle instead of plastic bottles
3. Bamboo bottles can be used instead of plastic bottles.
4. Papper bag at subsidized rate should be provided.
5. Encourage industry to manufacture non plastic bags.
6. Tax on plastic packing material that tax can be used to plant more trees or taking this money on using environment savvy things.
7. Recycling
8. Strict rules and regulations.
9. Awareness in public.
Thnx all

500

kamal Kishore 2 months 3 weeks पहले

आज की तारीख में ज्यादातर जितना भी यह प्लास्टिक है
वो सिर्फ पैकिंग मटेरियल है।
उदाहरण के लिए - कुरकुरे, पानी की बोत्त्तल,
और जितने भी ये पैकिंग मटेरियल है। यह मुख्य वजह है इस प्लास्टीक पॉल्यूशन की,

इसका समाधान करना है तो ये पैकिंग की चिजो का कोई नया विकल्प त्यार करना होगा,
और उस नए विकल्प का सस्ता होना भी जरूरी है ताकि लोग और जो ये पैकिंग मैन्युफैक्चरर कम्पनी है यह इसे अपना सके।

8950

NAIN PRAKASH 2 months 3 weeks पहले

सर्वप्रथम प्लास्टिक से मुक्ति के लिए प्लास्टिक के विकल्प की आवश्यकता है। जितनी भी प्लास्टिक की वस्तुएं हैं इन सब के लिए प्लास्टिक की ही तरह एक विकल्प हो जो सस्ता भी हो और टिकाऊ भी हो। और इस सब के लिए विश्व समुदाय लगा हुआ है। अभी प्लास्टिक से होने वाले प्रदूषण व इसकी हानि से बचने के लिए इसके सदुपयोग और इसके इक्कठा करने व रिसाइकिल करके इसके पुनरुपयोग की व्यवस्था की है। इसके लिए जनमानस में जागरूकता तथा कॉलेक्टिंग तथा रिसाइक्लिंग ढांचे की वेहद आवश्यकता है।

4300

Abid Tharavattath 2 months 3 weeks पहले

For house hold plastic reduction first of all Govt. should ban all types of plastic carry bags. People may be taught to sort different types of plastics reaching their home and ask them to keep in separate sacks or bins accordingly. These wastes should be collected by some Govt. authority regularly and may be sent to shredding units.Initially it may be charged but after a certain period houses with low quantity should be rewarded publicly.Along with these activities strict action from Govt reqrd

5800

Mokshit Thakur 2 months 4 weeks पहले

१. प्लास्टिक की बोत्त्लों को न कहें |
२. दुकान से सामान और सब्जियां लेने के लिए अपना कपडे का थैला ले जायें |
३. स्टील की बोत्त्लों को न कहें |
४. एक बार में एक ही इस करें खाएं |
५. प्लास्टिक के थैलों को न कहें |
६. नजदीकी किसान भाई से सब्जियां ख़रीदे |
७. ढाबों से खाना लेते वक्त अपना बर्तन ले जायें |
८. प्लास्टिक की थालियों को न कहें |